Posts

Showing posts from September, 2020

अनाथालय की मेरी यात्रा

                             अनाथालय की मेरी यात्रा                        इस वर्ष, बाल दिवस पर, हम वत्सलधाम अनाथालय की शैक्षिक यात्रा पर गए। हम स्कूल बस से वत्सलधाम गए। एक बहुत बड़ा यार्ड था। यार्ड में एक खेल का मैदान और एक छोटा बगीचा था। लेकिन बगीचे में कोई बच्चे नहीं थे, क्योंकि यह उनके अध्ययन का समय था। हमने वत्सलधाम कार्यालय पार किया और हॉल में प्रवेश किया।   https://interestartical.blogspot.com/2020/09/blog-post_19.html               5 और 12 साल की उम्र के बीच लड़के और लड़कियां थे। उसने वर्दी पहन रखी थी। मंच पर पंडित जवाहरलाल नेहरू की तस्वीर थी। शिक्षक उसे पंडित नेहरू के बारे में बता रहे थे। हम भी उस बच्चों की बैठक में शामिल हुए। उनके शिक्षक ने हमारा स्वागत किया। एक छोटी लड़की द्वारावत्सलधाम के बारे में बताया। फिर मनोरंजन हुआ। हमने उनकी तारीफ की और उनकी मां को खाना दिया। हम वत्सलधाम देखने गए।                 प्रत्येक कमरे में आठ बच्चे रहते थे। सोने के लिए उनके पास एक बिस्तर दूसरे के ऊपर था। अध्ययन के लिए छोटे टेबल थे। इसके अलावा दीवार पर एक छोटी अलमारी थी, जिस पर

शैक्षिक भ्रमण और छात्र पर निबंध हिंदी में

Image
                        शैक्षिक भ्रमण से होता है बच्चों में वास्तविक ज्ञान                                        स्कूल से अंतिम कक्षा तक परीक्षाएं ली जाती हैं। यात्रा के पीछे एक शैक्षिक उद्देश्य है। यात्रा बच्चों की सीखने की प्रक्रिया का एक हिस्सा है।                बच्चे किताब में क्या पढ़ते हैं, उन्हें पहले हाथ का अनुभव होता है। एक भूगोल पुस्तक में हम जो चीजें सीखते हैं, उदा। , नदी का मुंह, नाला, द्वीप, ये सभी चीजें कोंकण की यात्रा में देखी जा सकती हैं। इसके अलावा, आप यह भी देख सकते हैं कि कोंकण की यात्रा पर नारियल को हाइलैंड्स से कैसे निकाला जाता है। गाँव में रहने वाले बच्चों ने शहर नहीं देखा होगा। फिर मुंबई जैसे शहर की यात्रा उन्हें कुछ नया करने के लिए पेश करती है।              यात्रा का आनंद लेते हुए, बच्चों को यह भी नहीं पता है। तुम्हारीदोस्तों के साथ रहते थे। अपने काम को करने में सक्षम होना कितना खुशी की बात है। यात्रा के दौरान, बच्चे सभी चीजों, सभी अनुभवों को एक-दूसरे के साथ साझा करना सीखते हैं। हम पुस्तक से शिवराय का इतिहास पढ़ते हैं। परीक्षा के लिए। हम व

विकलांगों के भगवान - बाबा आमटे

Image
        विकलांगों के भगवान                      बाबा आमटे          बाबा आम्टे का जन्म 1914 में विदर्भ में एक आरामदायक परिवार में हुआ था।  बाबा, जो खुद एक वकील बन गया, शहर का मेयर था।  लेकिन मन को समाज सेवा का शौक था।              बारिश में भीगी हुई एक कोढ़ी मिली और उन्हें सामाजिक कार्यों का रास्ता मिल गया।तब से बाबा ने अपना सामाजिक कार्य शुरू कर दिया।  उनके साथ हमेशा उनकी पत्नी साधनाताई अमटे भी थीं।  समाज ने विस्थापित हो चुके विकलांग कुष्ठरोगियों के लिए विदर्भ के बरनिया के मालराना पर एक 'आनंदवन' स्थापित किया।  उन्होंने विकलांगों और कोढ़ियों में आत्मविश्वास पैदा किया।  वृद्धों के लिए उत्तरायण उठाया              बाबा ने बेसहारा बच्चों के लिए आधार हेमलकसा में युवाओं के लिए एक नया क्षितिज बनाया।  इसने कई युवाओं को काम करने के लिए प्रेरित किया।  बाबा ने उन शरणार्थियों के लिए काम किया, जिन्होंने सरदार सरोवर में अपना घर खो दिया था।  उन्होंने भारतीय लोगों के लिए 'भारत जोड़ी' का विचार पेश किया।  बाबा ने इस लक्ष्य के साथ काम करना जारी रखा कि यदि आप अपने लिए जीते हैं, तो आप मरेंगे

सुखा/अकाल/अनावृष्टि पर निबंध | drought essay in hindi

Image
                                सुखा                 सूखा एक बुरा समय है!  सूखे के दो प्रकार हैं।  एक गीला सूखा, दूसरा सूखा सूखा।  बारिश कभी-कभी इतनी गिर जाती है कि खेत में लगा सारा अनाज उड़ जाता है।  आदमी के पास खाने के लिए कुछ नहीं बचा है।                      कभी-कभी बारिश नहीं होती है।  पानी हर जगह है।  वे जमीन पर गिर पड़े।  चारे की कमी के कारण पशु मर जाते हैं।  लोग भूख से बेहाल भी हो जाते हैं।  मनुष्य ने सूखे से पानी को संग्रहित करने के लिए बांध बनाए हैं।  इसका उपयोग सूखे के दौरान पानी की आपूर्ति के लिए किया जाता है।  पानी मिट्टी में संपीड़ित होता है।  अभी भी भूमिगत हैजल स्तर बहुत नीचे जा रहा है।  मनुष्य यह जानता है।  सुखा/अकाल/अनावृष्टि पर निबंध | drought essay in hindi          आजकल दुनिया इतनी करीब है कि अगर दुनिया के एक हिस्से में सूखा पड़ता है, तो दुनिया के दूसरे हिस्सों से उस हिस्से में अनाज भेजा जाता है।  सूखे के काम शुरू हो जाते हैं।  सूखे के दौरान जानवरों की हालत बहुत खराब थी।  उन्हें गीला चारा भी नहीं मिलता है।  किसानों के लिए मुश्किल परिस्थितियों में मवेशियों की देखभाल

सार्वजनिक स्वच्छता पर निबंध हिंदी में।

Image
    सार्वजनिक स्वच्छता एवं आरोग्य पर निबंध हिंदी में।      आजकल के समय में निबंध लिखना एक महत्वपूर्ण विषय बन चुका है, खासतौर से छात्रों के लिए। ऐसे कई अवसर आते हैं, जब आपको विभिन्न विषयों पर निबंधों की आवश्यकता होती है। निबंधों के इसी महत्व को ध्यान में रखते हुए हमने इन निबंधों को तैयार किया है। हमारे द्वारा तैयार किये गये निबंध बहुत ही क्रमबद्ध तथा सरल हैं और हमारे वेबसाइट पर छोटे तथा बड़े दोनो प्रकार की शब्द सीमाओं के निबंध उपलब्ध हैं।    अपने गाँव या क्षेत्र में व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखता है।सार्वजनिक स्वच्छता एवं आरोग्य|•  हम अपने घर और यार्ड को साफ रखने की पूरी कोशिश करते हैं।  लेकिन साथ ही हम अपने घरेलू कचरे को कहीं भी फेंक देते हैं।  कचरा डिब्बे सार्वजनिक स्थानों पर रखे जाते हैं, लेकिन अगर हम अपना कचरा उस डिब्बे में डालते हैं तो हमें कोई चिंता नहीं है।  कई मण्डली टहलने के लिए बाहर जाती हैं।  वहां से वापस जाते समय, वे इतनी रगड़ छोड़ते हैं कि यात्रा का स्थान सुखद न होकर गंदा दिखता है।  आसपास खाली बोतलें, प्लास्टिक बैग, पेपर प्लेट, स्क्रैप पेपर पड़े हैं।  (सार्वजनिक स्वच्छता एवं